भक्ति की पराकाष्ठा ।। Sampurna Samarpan.

भक्ति की पराकाष्ठा ।। Sampurna Samarpan.   जय श्रीमन्नारायण, वाणी गुणानुकथने श्रवणौ कथायां, हस्तौ च कर्मसु मनस्तव पादयोर्न: ।। स्मृत्यां

Read more