आंसू पोंछ कर मेरे प्रियतम ने मुझे हँसाया है ।।

जय श्रीमन्नारायण,

प्यारे कन्हैया,

आंसू पोंछ कर मेरे प्रियतम ने मुझे हँसाया है ।।
मेरी हर गलती पर भी मेरे प्यारे ने मुझे सीने से लगाया है ।।
भरोसा क्यों न हो मुझे मेरे प्यारे कन्हैया पर ।।
मेरे लाला ने हर हाल में मुझे जीना सिखाया है ।।

 

क्योंकि प्यारे आपके बिना हमारा कोई आस्तित्व ही नहीं बचता ।।

।। जय जय श्री राधे ।।

www.sansthanam.com
www.dhananjaymaharaj.com
www.sansthanam.blogspot.com
www.dhananjaymaharaj.blogspot.com

जय श्रीमन्नारायण ।।
।। नमों नारायण ।।

tirupati balaji mandir Swami Dhananjay Maharaj

Swami Dhananjay Maharaj

Swami Dhananjay Maharaj

श्रीमद्भागवत प्रवक्ता - स्वामी धनञ्जय जी महाराज के श्रीमुख से कथा पान हेतु अपने गाँव, शहर या सोसायटी में निजी अथवा सार्वजनिक रूप से भागवत कथा के आयोजन हेतु सम्पर्क करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.